Sucide Shayri -Chhod Diya Mujhko Aaj Meri Maut Ne Yeh Kah Kar,
Ho Jao Jab Zinda, To Khabar Kar Dena.

छोड़ दिया मुझको आज मेरी मौत ने यह कह कर,
हो जाओ जब ज़िंदा, तो ख़बर कर देना।

Maut Ek Sachchai Hai Usme Koyi Aib Nahin,
Kya Leke Jaoge Yaaro Kafan Me Koyi Jeb Nahi.

मौत एक सच्चाई है उसमे कोई ऐब नहीं,
क्या लेके जाओगे यारों कफ़न में कोई जेब नही।

Choom Kar Kafan Me Lapte Mere Chehre Ko,
Usne Tadap Ke Kaha…
Naye Kapde Kya Pahn Liye, Hume Dekhte Bhi Nahin.

चूम कर कफ़न में लपटे मेरे चेहरे को
उसने तड़प के कहा,
नए कपड़े क्या पहन लिए, हमें देखते भी नहीं’।

Jahar Ke Asardar Hone Se Kuchh Nahi Hota Sahab, 
Khuda Bhi Raazi Hona Chahiye Maut Dene Ke Liye.

जहर के असरदार होने से कुछ नही होता साहब
खुदा भी राजी होना चाहिये मौत देने के लिय.

Koyi Nahi Aayega Meri Zindangi Me Tumhare Siva,
Ek Maut Hi Hai, Jiska Main Wada Nahi Karta

कोई नही आऐगा मेरी जिदंगी मे तुम्हारे सिवा,
एक मौत ही है, जिसका मैं वादा नही करता।

Sucide Shayri In Hindi

Bekhabar, Bevajah Berukhi Na Kiya Kar,
Koi Toot Jaata Hai Tera Lahaja Badalne Se.

बेखबर, बेवजह बेरुखी ना किया कर,
कोई टूट जाता है तेरा लहजा बदलने से। Sucide Shayri

Ye Jo Tum Lafhazon Se Baar Baar Chot Dete Ho Na
Dard Vaheen Hota Hai… Jahaan #Tum Rahate Ho.

ये जो तुम लफ़्हज़ों से बार बार चोट देते हो ना
दर्द वहीं होता है… जहाँ #तुम रहते हो।

Shero-Shayari To #Dil Bahlane Ka Zariya Hai Janaab,
Lafz Kagaj Par Utarne Se Mahaboob Nahin Lauta Karte.

शेरो-शायरी तो #दिल बहलाने का ज़रिया है जनाब,
लफ़्ज़ कागज पर उतारने से महबूब नहीं लौटा करते।

Main Aaina Hoon…. Tootna Meri #Fitarat Hai,
Isaliye Pattharon Se Mujhe Koi Gila Nahin.

मैं आईना हूँ…. टूटना मेरी #फितरत है,
इसलिए पत्थरों से मुझे कोई गिला नहीं।

Ek To Sukun Mere Dil Ka Aur Ek Tum…!
Kahan Rahte Ho Aaj Kal Milte Hi Nahi.

एक तो सुकुन मेरे दिल का और एक तुम….!
कहाँ रहते हो आज कल मिलते ही नही।

Khwab Boye The, Aur Akelapan Kata Hai,
Is Mohabbat Mein… Yaron Bahut Ghata Hai.

ख्वाब बोये थे, और अकेलापन काटा है,
इस मोहब्बत में… यारों बहुत घाटा है।

Sab Ke Hote Huye Bhi Tanhai Milti Hai,
Yaadon Me Bhi Gham Ki Parchhai Milti Hai,
Jitni Bhi Dua Karten Hain Kisi Ko Paane Ki,
Utni Hi Jyada Judai Milti Hai.

सब के होते हुए भी तन्हाई मिलती है,
यादों में भी गम की परछाई मिलती है,
जितनी भी दुआ करते हैं किसी को पाने की,
उतनी ही ज्यादा जुदाई मिलती है।

Wafa Ki Zanjeer Se Dar Lagta Hai,
Kuch Apni Taqadeer Se Dar Lagta Hai,
Jo Mujhe Tujhse Juda Karti Hai,
Haath Ki Us Lakeer Se Dar Lagta Hai.

वफ़ा की ज़ंज़ीर से डर लगता है,
कुछ अपनी तक़दीर से डर लगता है,
जो मुझे तुझसे जुदा करती है,
हाथ की उस लकीर से डर लगता है।

Tu Kya Jane Kya Hai Tanhai,
Is Tute Hue Dil Se Puch Kya Hai Judai,
Bewfai Ka Ilzam Na De Zalim,
Is Waqt Se Puch Kis Waqt Teri Yaad Nahi Aai.

तू क्या जाने क्या है तन्हाई,
इस टूटे हुए दिल से पूछ क्या है जुदाई,
बेवफाई का इल्ज़ाम न दे ज़ालिम,
इस वक़्त से पूछ किस वक़्त तेरी याद नहीं आती।

Unki Tasbir Ko Seene Se Laga Lete Hain,
Iss Tarah Judai Ka Gham Uthha Lete Hain,
Kisi Tarah Jikr Ho Jaye Unka,
To Hans Kar Bhigi Palkein Jhuka Lete Hain.

उनकी तस्वीर को सीने से लगा लेते है,
इस तरह जुदाई का गम उठा लेते है,
किसी तरह ज़िक्र हो जाए उनका,
तो हंस कर भीगी पलके झुका लेते है। Sucide Shayri

Tamnna Ishq To Hum Bhi Rakhte Hai,
Hum Bhi Kisi Ke Dil Me Dhadkte Hai,
Milna Chahte To Bahut Hai Hum Aapse,
Par Milne Ke Bad Judai Se Darte Hai.

तमन्ना इश्क तो हम भी रखते हैं,
हम ही किसी के दिल में धड़कते हैं,
मिलना चाहते तो बहुत हैं हम आपसे,
पर मिलने के बाद जुदाई से डरते हैं।

Mumkina Faislon Me Ek Hijr Ka Faisla Bhi Tha,
Hum Ne To Ek Baat Ki Us Ne Kamaal Kar Diya.

(Hijr – Separation)

मुमकिन फैसलों में एक हिज्र का फैसला भी था,
हम ने तो एक बात की उसने कमाल कर दिया।

Ab Bujha Do Ye Sisakte Huye Yaadon Ke Chiraag,
Inse Kab Hijr Ki Raaton Me Ujala Hoga.

अब बुझा दो ये सिसकते हुए यादों के चिराग,
इनसे कब हिज्र कि रातों में उजाला होगा।